Purpose Driven Life Book Full Summary Chapter 1 In Hindi

The Purpose Driven Life Book Full Summary Chapter 1 In Hindi

परिचय ( Introduction ) 

क्या आप जानते है आप इस दुनिया में किसलिए आये हो ? आपका पर्पज क्या है ? जब मरने के बाद आपसे पुछा जाएगा कि आपने अपनी लाइफ में क्या अचीव किया तो आप क्या जवाब दोगे ? 
 
दुनिया में बहुत सारे इंटेलिजेंट लोगो ने इस क्वेश्चन का आंसर ढूँढने की बहुत कोशिश की है | हमे डेवलप हुए बहुत साल हो चुके है लेकिन हमे अभी तक इस सवाल का जवाब नही मिला है | वैसे हर इंसान इस सवाल का अलग जवाब देगा कि आखिर वो इस दुनिया में क्यों आया है ? 
 

 

हम इस दुनिया में क्यों आये है ? ये एक ऐसा टॉपिक है जिस पर सदियों से बहस होती रही है और आज भी हो रही है | 
 
दुनिया में ना जाने कितने ही फिलोसफर्स और थिंकर्स इस सवाल का जवाब ढूढने की कोशिश कर चुके है पर कोई नतीजा (Result) नहीं निकला | 
 
इस बुक में हम ये भी पढ़ेंगे कि कैसे गॉड भी सदियों पुरानी चली आ रही इस बहस का एक हिस्सा है | लेकिन साथ ही ये बुक हमे हमारे रियल पर्पज को समझने में हेल्प करती है | इसके अलावा इस बुक को पढ़कर हमे एक पर्पजफुल लाइफ जीने के तरीकों के बारे में पता चलेगा |
 
 “ एक पर्पजफुल लाइफ क्या है “ अगर आपको इस सवाल का जवाब मालूम है तो भी ये बुक आपको एक बार तो जरूर पढ़नी चाहिए | क्या पता ये आपके चीजों को देखने का पर्सपेक्टिव ही चेंज कर दे | 
 
तो क्या अब आप रेडी है एक पर्पज ड्राइवन लाइफ जीने के लिए ? 
 

Chapter 1. हर चीज़ भगवान् से शुरू होती है 

 
शायद आप सोचते हो कि आपकी लाइफ का पर्पज सिर्फ खुश रहना है या सक्सेसफुल बनना है तो आप गलत सोच रहे हो | 
 
दरअसल जब हम एक सेल्फिश पर्सपेक्टिव से सोचने लगते है तो हम अपना लाइफ पर्पज भी गलत चूज़ कर लेते है | 
 
फिर हम खुद से पूछते रहते है कि “ मुझे लाइफ में क्या करना है , क्या बनना है ? ‘ और यही कन्फ्यूजन हमे कहीं का नही छोड़ती | जो लोग सिर्फ और सिर्फ खुद के बारे में सोचते है , उन्हें अपनी लाइफ का टू पर्पज कभी नही मिलता | 
 
इसलिए सबसे पहले तो अपना पर्सपेक्टिव चेंज करो | ये सोचो कि आखिर हमे किसने बनाया है और क्यों बनाया है ? आखिर उसका कोई पर्पज तो होगा हमे बनाने का ? तो ये समझ लो कि आप सिर्फ ऊपरवाला की मर्जी से इस दुनिया में आए हो | 
 
क्योंकि उसने आपको बनाया है तो इस दुनिया में आपको लाने वाला भी सिर्फ वो अपने पेरेंट्स के डिसाइड करने से पहले ही भगवान् ने आपको क्रिएट कर लिया था | 
 

आज अगर आप जिंदा हो , साँस ले रहे हो तो ये आपका प्योर लक नही है और ना ही कोई कोइंसिडेंस | वो ऊपरवाला ही है जिसने आपको बनाया , और उसके रुल में चांस की कोई जगह ही नहीं है | उसने आपको बनाया है तो आपके लिए एक पर्पज भी डिसाइड किया है | और यही बात दुनिया के हर इन्सान पर अप्लाई होती है | 

भगवान् ने हम सबको इसलिए बनाया है क्योंकि वो हमे प्यार करता है , अपने बनाये इंसानों की उसे बेहद कद्र है | यहाँ तक कि उसने अपने प्यारे इंसानों के लिए ये दुनिया बनाई और दुनिया भी कोई ऐसी – वैसी नहीं बल्कि एक बेहद खूबसूरत दुनिया जहाँ हम आराम से रह सके और सर्वाइव कर सके | 
 
इस दुनिया में जो कुछ भी हमे हासिल है , सब उसी का दिया हुआ है | तो अगर हम कहे कि भगवान हमसे प्यार करता है और प्यार का दूसरा नाम ही भगवान् है तो कुछ गलत नही होगा | उसका प्यार ही हमारी लाइफ का मकसद है | तो ऐसा क्या है आपकी लाइफ में जो आपको जीने के लिए इंस्पायर करता है ? 
 
कई लोग डर , गुस्से या नफरत से जीते है पर ये हमारे जीने का पर्पज नहीं होना चाहिए | अगर पर्पज ना हो तो लाइफ बेकार है | ठीक ऐसे ही जैसे हमे पता नही कि जाना कहाँ है और हम चले जा रहे है | इसलिए हर इन्सान की लाइफ का कोई पर्पज तो होना ही चाहिए | 
 
पर्पज हमे एक ख़ुशी देती है , एक उम्मीद देती है | याद रखो , भगवान् ने अगर आपके लिए प्लान बनाया है तो वो आपको इतना देगा जितना आप सोच भी नहीं सकते | लाइफ में एक पर्पज होना लाइफ को और भी सिंपल बना देता है | 
 
फिर आप वही करते हो जो गॉड का पर्पज पूरा करे | पर अगर हमारे किसी काम से गॉड का पर्पज पूरा नही होता तो हमें वो काम नहीं करना है | जब आप गुस्से या नफरत भरी लाइफ जीते हो तो आप बेकार की चीजों में अपना टाइम ईजिली वेस्ट कर सकते हो | लेकिन गुस्से और नफरत में जीने वाले हमेशा स्ट्रेस में भी रहते है | 
 
जिसकी लाइफ में पर्पज है वो पूरे पैशन के साथ अपना सारा फोकस अपनी लाइफ में रखता है | और आप ये भी जानते हो कि लाइफ में आपको क्या करना है , क्योंकि आपको गॉड का पर्पज पता है जो उसने आपके लिए चूज़ किया है | 
 
जो लोग पर्पजफुल लाइफ जीते है वही गॉड के सामने खड़े भी हो सकते है | तब गॉड आपसे पूछेगाक्या तुमने मुझे अपनी लाइफ में एक्स्पेट किया ? ‘ और वो आपसे ये भी पूछेगा कि जो कुछ उसने आपको दिया , लाइफ में आपने उसका क्या किया ” ? 
 
तब आप क्या जवाब दोगे ? ‘ 
 
लेकिन हमे उम्मीद है कि बुक के एंड तक शायद आपको जवाब भी मिल जाएगा |
 

Leave a Comment