The Adventure of the beryl coronet About Book in Hindi

The Adventure of the beryl coronet About Book in Hindi

” होम्स ,” खिड़की के पास खड़े होकर , नीचे गली में देखते हुए मैंने कहा, “ एक पागल आदमी चला आ रहा है । बड़े दुःख की बात है कि उसके रिश्तेदारों ने उसे अकेले बाहर जाने दिया ।
The Adventure of the beryl coronet About Book in Hindi
The Adventure of the beryl coronet
” मेरा दोस्त आलस के साथ अपनी आर्मचेयर से उठा और अपने ड्रेसिंग। गाउन की जेब में हाथ डालकर मेरे कन्धों के ऊपर से झाँकने लगा ।
 
यह एक चमकदार और तेज धूप वाली फरवरी की सुबह थी, और एक दिन पहले की बर्फ अभी भी जमीन पर पड़ी हुई थी, जो तेज धूप में चमक रही थी ।
 
बेकर स्ट्रीट के बीच ट्रैफिक ने इसे भरे रंग की पट्टियों में फैला दिया फुटपाथ के किनारों पर अभी भी सफ़ेद रंग की ही बर्फ पड़ी हुई थी।
 
ग्रे फुटपाथ को खुरच कर साफ़ कर दिया गया है, लेकिन अभी भी वहाँ खतरनाक फिसलन थी, इसलिए वहाँ किसी आम दिन की तुलना में बहुत कम लोग आ जा रहे थे ।
 
असल में, मेट्रोपॉलिटन स्टेशन की तरफ से उस अकेले इंसान के अलावा कोई नहीं आ रहा था , जिसके अजीब से बर्ताव ने मेरा ध्यान खींचा था। 
 
वह लगभग पचास साल का एक लंबा – चौड़ा और दमदार आदमी था , उसका चेहरा बड़ा , और शरीर मजबूत था ।
उसने सादे लेकिन मेहेंगे कपड़े पहने थे, काले रंग का फ्रॉक – कोट , चमचमाती टोपी, साफ – सुथरे भूरे गैटर ( gaiter ) और अच्छी फिटिंग वाली पर्ल – ग्रे कलर की पैंट ।
 
लेकिन उसकी हरकतें उसके कपड़े और शख़्सियत से बिल्कुल अलग थे, क्योंकि वह बहुत तेज भाग रहा था , और बीच बीच में छोटी सी छलांग भी लगाता, जैसे एक थका हुआ आदमी करता है जो ज्यादा चलने फिरने का आदि ना हो ।
 
भागते हुए वह अपने हाथों को झटके से ऊपर नीचे करता , अपना सिर हिलाता, और अपने चेहरे को अजीब तरह से मोड़ देता। 
 
अगर आप इस बुक को Buy करना चाहते है तो इमेज पर क्लिक कर के Buy कर सकते है |

Leave a Comment