How to get rid of overthinking in hindi

ओवरथिंकिंग से छुटकारा कैसे पाये | How to get rid of overthinking in Hindi 


क्या Overthinking से छुटकारा पाया जा सकता है। 

जी बिलकुल, Overthinking से छुटकारा पाया जा सकता है। हालाँकि इसमें  थोड़ा समय लग सकता है लेकिन यदि आप नीचे दिए स्टेप्स को फॉलो करते हैं तो आप ओवरथिंकिंग की प्रॉब्लम से यकीनन छुटकारा पा सकते हैं। तो आइये जानते हैं की Overthinking की Problem से छुटकारा कैसे पाएं।

Overthinking  से छुटकारा पाने के उपाए | Tips to get rid of overthinking


ये हम सब जानते हैं कि पहले विचार दिमाग में आता है फिर वो क्रिया का रूप लेता है। हमे कोई भी काम सोच समझकर करना बहुत जरूरी है। 

पर किसी काम को लेकर जरूरत से ज्यादा सोचना और वो बाते भी सोचना जो काम से सम्बंधित नहीं है, आपको और आपके काम दोनों को नुकसान पहुंचाता है।

तो यह thinking problem  नहीं है बल्कि Overthinking problem हैं और इसे कम करना जरूरी है। तो आइये जानते हैं Overthinking से छुटकारा या कम करने के उपायों का –

How to get rid of overthinking in hindi
How to get rid of Overthinking


1- स्वीकार करें की आप जरूरत से ज्यादा सोचते हैं (ACCEPT THAT YOU ARE OVER THINKER)

इस बात को आप मन से स्वीकार करें की आप ज्यादा सोचते हैं और आपको ऐसा नहीं करना है। 
जब आप इस बात को स्वीकार कर लेंगे तो आप इससे छुटकारा पाने के लिए अपने आप को तैयार कर लेंगे। आप Overthinking को लेकर जागरूक हो जायेगें।
जब भी आपको लगे के दिमाग में कोई भी विचार चल रहा है तो आप अपना थ्यान अपने विचार पर लाये और थ्यान से देखे की आपके विचार कहा से शुरू हुये थे और आप अभी क्या सोच रहे है क्या ये विचार आपके कोई काम है, 
ये विचार मुझे कैसा महसुस करा रहे है क्या में इन विचारो को सोचे के अच्छा महसुस कर रहा हूँ या फिर बुरा 
अगर आप इन विचारो से अच्छा महसुस कर रहे है तो तुरंत आप ये विचारो को किसे नोट बुक में लिख ले 
अगर आप बुरा महसुस कर रहे है तो तुरंत उसे वहीँ रोक दो और अपना ध्यान किसी दुसरी चीज़ पे लगा दे 
तब आपको मालूम होता जायेगा की आप कितनी फालतू की बातें सोचकर अपना समय और शक्ति बर्वाद कर रहे हैं।
ऐसा जरुरी नहीं है की ओवर थिंकिंग हमेशा नेगटिव चीज़ के लिए की जाए | आप Overthinking अच्छी चीज़ के लिए भी कर सकते है| 

Overthinking आप अपनी लाइफ को अच्छी करने के बारे में कर इसे आपकी लाइफ बहुत अच्छी हो जायेगी |

2- हमेशा सकारात्मक सोचने की कोशिश करें(ALWAYS TRY TO THINK POSITIVE)

आप अपने लिए  क्या-क्या गलत हो सकता है कि जगह क्या-क्या अच्छा हो सकता है ये सोंचें। 
नकारात्मक विचार डराते हैं और आपका दिमाग चिंता से दौड़ने लगता है। जब आप उन नकारात्मक चीज़ों पर ध्यान केंद्रित करने लगते हैं जो कही हो गयीं तो, तब आप दिमाग के गुलाम हो जाते हैं। लेकिन जब आप सकारात्मक रूप से सोचते हैं तो दिमाग आपका गुलाम होता है।
सकारात्मक रहने का मतलब यह नहीं है की आप चीज़ों के सिर्फ एक पहलू को देखें बल्कि आपको सही और गलत दोनों पहलुओं को देखना जरूरी है। पर केवल नकारात्मक सोचना या ज्यादा नकारात्मक विचार आपको अनुचित सोचने पर मज़बूर कर देते हैं।

3- योग, ध्यान और व्यायाम करें ( YOGA, MEDITATION AND EXERCISE)


योग, ध्यान और व्यायाम मस्तिष्क और शरीर को स्वस्थ्य रखते हैं। ध्यान (meditation)  overthinking problem में काफी लाभदायक है। इसे अपने जीवन को हिस्सा बनायें।

4- वर्तमान क्षण में जीने की कोशिश करो (TRY TO LIVE IN THE PRESENT MOMENT)


कभी कभी लोग बीती हुई बातों या घटना के बारे में ही सोचते रहते हैं और तनाव में आ जाते हैं। इसी प्रकार जो समय आने वाला है उसे लेकर भी इतनी चिंता करते हैं की तनाव में रहते हैं। तनाव में दिमाग हावी हो जाता है और फालतू बातें सोचने लगता हैं।

जो समय बीत गया है उससे सीख लो। जो आने वाला है उसकी तैयारी करो। लेकिन यह आप तभी कर सकते हैं जब आप वर्तमान में रहें। इसलिए आप जो अभी कर रहें हैं तो पूरा ध्यान उसी पर लगाओ। जैसे आप यह आर्टिकल पढ़ रहे हैं तो इसे ध्यान से पढ़ो।

5- जो बात आपको परेशान कर रही है उसे लिख लें (WRITE DOWN WHAT IS BOTHERING YOU)


आपके सोचने के तरीके और आपके महसूस करने के तरीके के बीच एक मजबूत संबंध है।  आपके सोचने का तरीका आपकी भावनात्मक स्थिति को प्रभावित करता है और आपकी भावनात्मक स्थिति आपके सोचने के तरीके को प्रभावित करती है।

तो जो बात आपको परेशान कर रही है उसे लिख लें। अब उस बात के बारे में यह लिखे की यह आपको क्यों परेशान कर रही है। अब अपने आप से प्रश्न करें की क्या इस समस्या का हल परेशान रहना है। यदि नहीं तो उसका हल ढूंढे। और यही इसका कोई हल नहीं है तो परेशान रहने और सोचते रहने से क्या होगा। जब धीरे धीरे आप ऐसे करेंगे तो इस चीज़ के आपको आदत पड़ती जायगी और आप अनावश्यक सोचना बंद कर देंगे।

6- अपनी भावनाओं को नियंत्रण रखें (CONTROL YOUR EMOTIONS)


भावनाओं पर नियंत्रण रखने का मतलब यह बिलकुल भी नहीं है की आप अपनी भावनाओं को दवाएं। लेकिन आपको अपनी भावनाओं पर नियंत्रण रखना होगा। जब आप अपनी भावनाओं पर नियंत्रण रखते हैं तो हकीकत को देख पाते हैं। अनियंत्रित भावनाएं दिमागी विचारों को बेफजूल गति प्रदान करती हैं।

7- चिंता नहीं चिंतन करें (CONCERNS)


चिंता  Overthinking को जन्म देती है और चिंतन creativity को जन्म देता है। फालतू सोचने के जगह कोई कहानी, कोई लेख, कविता या कुछ रचनात्मक सोचें।

8- अपने पसंद की चीज़े करें (DO THE THINGS YOU LIKE)


जब भी आप फ्री हों तो कोई भी ऐसा काम करें जिसे करना आपको अच्छा लगता हो। किताबे पढ़ें, गाने सुने, गाने गायें, घूमने जाएँ। यदि आपके घर में बच्चे हैं तो बच्चों के साथ खेलें। अपने दोस्तों से साथ समय व्यतीत करें।

9- अपना सर्वश्रेष्ठ स्वीकार करें (ACCEPT YOUR BEST)


जब आप ज्यादा सोचते हैं तो न चाहते हुए भी आप नकारात्मक बातें सोचते हैं और अपने आप को औरों से कम आंकने लगते हैं। याद रखें कोई भी परफेक्ट नहीं होता। जो आप हैं आप जैसा कोई नहीं है।  लोग क्या कहते है इस पर ध्यान देने की वजाये अपना सर्वश्रेष्ठ स्वीकार करें। अपने ज्ञान को बढ़ाते रहें और पॉजिटिव रहें।

10- मन को शांत रखें (MAKE YOUR MIND CALM)


आधुनिक ज़िंदगी भागदौड़ और तनाव भरी है। अधिकतर लोगों के साथ तनाव में बने रहना इतना सामान्य हो जाता है की उन्हें इस बात का पता ही नहीं चलता की धीरे धीरे तनाव उनके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव डाल रहा है।

जब मन अशांत होता है तब नकारात्मक और फ़िज़ूल के विचार हमारे दिमाग में घर करने लगते हैं। यदि आप Overthinking से छुटकारा पाना चाहते हैं तो अपने मन को शांत रखें.

दोस्तों, तो यह थे कुछ सुझाव जो Overthinking (अत्यधिक सोच) को कम करने के आपकी मदद कर सकते हैं। आप केवल वही बाते सोचें जो आपका उत्साह बढ़ाएं, कुछ निष्कर्ष निकालें और आपको खुश रखें। जब आप खुश और पोस्टिव होंगें तो आपके आस पास के लोग भी खुश और पोस्टिव होंगें। हमेशा याद रखें जीवन जीने के लिए होता है। आप क्या सोचते हैं यह आप पर निर्भर करता हैं। यदि आपको यह आर्टिकल अच्छा लगे तो कमैंट्स कर जरूर 

यह पोस्ट “Overthinking (अत्यधिक सोच) से छुटकारा कैसे पायें ! How to Stop Overthinking” आपको कैसी लगी कृपया कमेंट के माध्यम से अवश्य बतायें, आपके किसी भी प्रश्न एवं सुझावों का स्वागत है। कृपया Share करें और जुड़े रहने की लिए Subscribe करें. धन्यवाद

यदि आप ज़िन्दगी से जुड़ी किसी भी बात के बारे में, किसी भी प्रॉब्लम के बारे में कुछ जानना चाहते हैं तो कृपया कमेंट करके बतायें मैं उस बारे में आर्टिकल जरूर लिखूंगा।

Leave a Comment